✎ { निबंध } विद्यार्थी जीवन &अनुशासन पर निबंध | Vidhyarthi Jiwan Par Nibandh In Hindi

विद्यार्थी जीवन पर निबंध >विधार्थी जीवन ( Student Life ) किसी भी विद्यार्थी के जीवन का वो महत्वपूर्ण समय होता है जब एक विद्यार्थी विद्या ग्रहण करता है। विद्यार्थी जीवन किसी भी स्टूडेंट के जीवन का सबसे स्वर्णिम समय होता है।  

किसी भी विद्यार्थी को उसके विद्यार्थी जीवन में बहुत सी चीज़े सीखने को मिलती है और तमाम तरह के अनुभवों से एक विद्यार्थी अपने विद्यार्थी जीवन ग्रहण करता है अपने विद्यार्थी जीवन में एक स्टूडेंट्स देश तथा अपने समाज के प्रति आवश्यक कर्तव्यो के बारे में भी अच्छे से जनता है।  

विद्यार्थी जीवन में एक स्टूडेंट को अपनी पारिवारिक तथा सामाजिक जिम्मेदारियों को भी जानने का अवसर मिलता है , आज के आर्टिकल में हम विद्यार्थी जीवन पर निबंध लिखेंगे। 

विद्यार्थी जीवन पर प्रस्तावना -

हम गौर करते है ,तब हम पाते है की विद्यार्थी शब्द दो शब्दों ( विद्या + अर्थी ) के योग से मिलकर बना है ,जहा विद्या का सही मायनो में ज्ञान और विवेक से वास्ता है। वही अर्थी शब्द का अर्थ यह होता किसी भी चीज़ को "चाहने वाला" होता है। 

इस प्रकार से विद्यार्थी शब्द का पूर्ण अर्थ होता है , ज्ञान , बुद्धि तथा सही विवेक को चाहने वाला व्यक्ति , विद्यार्थी जीवन किसी भी विद्यार्थी के जीवन का वह समय होता है। जब वह सर्वप्रथम शिक्षा ग्रहण करने की शुरुआत करता है , यह समय विद्यार्थी के जीवन के सबसे अच्छे तथा स्वर्णिम समयों में से एक होता है। 

अपने विद्यार्थी जीवन में एक छात्र ( स्टूडेंट ) अपना मानसिक विकास करने के साथ - साथ नए अनुभवों को भी महसूस करता है। एक विद्यार्थी अपने विद्यार्थी जीवन में देश के प्रति अपने कर्तव्यो को जानता है वह इस समय अपने जीवन के शुरूआती मित्र भी बनाता है। 

विद्यार्थी जीवन किसी भी विद्यार्थी के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है क्योकि यही वो स्वर्णिम समय होता है जब वो सामाजिक रीतियों तथा शिक्षा के महत्वो को समझता है। विद्यार्थी जीवन किसी भी विद्यार्थी के जीवन का वह समय होता है। 

जब इसी शिक्षा से उसके जीवन की आधारशिला मजबूत होती है। यही कारण है की किसी भी विद्यार्थी के लिए उसका विद्यार्थी जीवन सबसे महत्वपूर्ण होता है। 

विद्यार्थी जीवन का महत्व तथा विशेषता { Importance of Student life } -

हम किसी भी चीज़ अथवा समय की विशेषता उसके द्वारा भविष्य में प्राप्त होने वाले परिणामो के आधार पर जान पाते है। उसी प्रकार विद्यार्थी जीवन का किसी विद्यार्थी के जीवन तथा आने वाले करियर ( सफलता ) पर क्या प्रभाव पड़ता है यह हम जानेंगे। 

किसी भी विद्यार्थी के लिए उसके जीवन में यह सीखने की शुरुआत मात्र होती है। अपने विद्यार्थी जीवन में किसी भी विद्यार्थी के सीखने के लिए विद्यालय तथा समाज का नया रास्ता खुलता है। किसी भी बालक के जीवन मे हम उसके विद्यार्थी जीवन की विशेषता इस प्रकार से भी जान सकते है , की जब एक विद्यार्थी शिक्षा अध्ययन की शुरुआत करता है। 

तब वह बिलकुल ही अबोध बालक होता है , लेकिन जैसे - जैसे वो अपने विद्यार्थी जीवन में सीखता और समझता जाता है।  वैसे - वैसे वह विद्यार्थी एक अबोध बालक से देश के एक विवेकपूर्ण विद्यार्थी तथा देश , समाज का जिम्मेदार नागरिक बन जाता है।  

इसी विद्यार्थी जीवन की वजह से वो अपने आने वाले खुशहाल तथा सफल जीवन की मजबूत आधारशिला भी रख देता है। इसी विद्यार्थी जीवन में वह अपने परिवार , देश तथा समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियो को जानता है। एक विद्यार्थी अपने विद्यार्थी जीवन में विद्यालय के अलावा भी उसे समाज में भी कदम - कदम पर सीखने को मिलता है। 

  1. अपने कर्तव्यो का आभास होता है 
  2. नए सीखते हुए जीवन की शुरुआत होती है 
  3. आने वाले सफल तथा शिक्षित जीवन की आधारशिला तैयार होती है 
  4. अपने विद्यार्थी जीवन में एक विद्यार्थी नए - नए मित्र भी बनाता है 
  5. अपने विद्यार्थी जीवन में एक अबोध बालक एक विवेकशील विद्यार्थी बन जाता है 

विद्यार्थी जीवन के उद्देश्य { Student life Objectives } -

जब कोई भी विद्याथी अपने विद्यार्थी जीवन ( Student Life ) में प्रवेश करता है ,तब एक ऐसी अलग दुनिया में आ जाता है , जहा उसे विभिन्न प्रकार के कामो और अवसरों का अनुभव प्राप्त होता है। 

जिस प्रकार से एक विद्यार्थी के जीवन में प्रत्येक समय का किसी न किसी तरह से कोई महत्त्व अवश्य होता है , उसी प्रकार से किसी भी विद्यार्थी के लाइफ में विद्यार्थी जीवन का भी एक महत्त्व तथा उद्देश्य होता है। विद्यार्थी जीवन के महत्त्व इस प्रकार है -

देश और समाज के प्रति अपने कर्तव्यो को जानना - जब एक अबोध बालक ( छात्र ) अपने विद्यार्थी जीवन में प्रवेश करता है। तब धीरे - धीरे उसे अपने देश तथा समाज के प्रति अपने कर्तव्यो का आभास होने लगता है और वह अपने विद्यार्थी जीवन के समाप्त होने तक उस विवेकशील विद्यार्थी की तरह हो जाता है।  जिसे अपने कर्तव्यो का पूरा ज्ञान होता है। 

जीवन में शिक्षा के महत्त्व को समझना - जब हमारे विद्यार्थी जीवन की शुरुआत होती है ,तब हमें अपने जीवन में शिक्षा के महत्त्व तथा उसकी उपयोगिता को जानने का अवसर प्राप्त होता है। किसी भी व्यक्ति अथवा विद्यार्थी को जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए उसके जीवन में शिक्षा का होना अत्यंत आवश्यक होता है।  

अपने जीवन के उद्देश्यों को जानना - जब हम विद्यार्थी जीवन की शुरुआत करते है ,तब हमें वहा अपने गुरुजनों द्वारा जीवन के उद्देश्यों के बारे में बताया जाता है। हमें अपने विद्यार्थी जीवन में यह जानने को मिलता है , की एक व्यक्ति के जीवन में उद्देश्यों की कितनी अहम भूमिका होती है। 

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की उपयोगिता - कहा जाता है की किसी भी सफल व्यक्ति अथवा विद्यार्थी के जीवन में अनुशासन सबसे महत्वपूर्ण होता है। विद्यार्थी जीवन में किसी विद्यार्थी का अनुशासन उसकी आदतों तथा उसके काम के प्रति आवश्यक होता है। 

विद्यार्थी जीवन तथा अनुशासन का महत्त्व {Importance of Discipline } - 

Vidhyarthi Jiwan में Anushasan Ka mahatva बहुत ही आवश्यक हो जाता है , क्योकि किसी भी विद्यार्थी के विद्यार्थी जीवन में सफलता इसी बात पर निर्भर करती है की वह अपने जीवन तथा काम के प्रति किस प्रकार का अनुशासन रखता है। यदि आप एक अनुशासित विद्यार्थी होते है ,तब आपको समय का महत्त्व अच्छे से पता होता है। 

जब विद्यार्थी अनुशासित होता है तब वह जीवन में अपनी आदतों के प्रति भी जिम्मेदार होता है , हम विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्त्व इस बात से भी लगा सके है की यदि एक विद्यार्थी अनुशासित नही होता है। तब वह अपने कर्तव्यो तथा उद्देश्यों को भूल जाता है और अपने मार्ग से विचलित होने लगता है। 

वही दूसरी ओर जो विद्यार्थी अपने जीवन तथा शिक्षा के प्रति अनुशासित होता है , उसके जीवन में कभी भी निराशा और असफलता के लिए स्थान ही नही होता है। हमें अपने विद्यार्थी जीवन में अनुशासन के महत्त्व को समझना चाहिए। विद्यार्थी जीवन में आगे बढ़ने तथा अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए अनुशासन अति - आवश्यक होता है। विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का बहुत महत्त्व माना जाता है। 

उपसंहार { Conclusion } - 

जब हम अपने जीवन के समय को किसी विशेष काम के लिए देते है ,तब हम उसके बदले में अच्छे जीवन और अनुभवों की अपेक्षा करते है। विद्यार्थी जीवन भी किसी भी विद्यार्थी के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण और उपयोगी समय होता है। विद्यार्थी अपने जीवन का अच्छा - ख़ासा समय विद्यार्थी जीवन को इसलिए देता है।  क्योकि उसे जीवन में उपयोगी शिक्षा प्राप्त हो सके और वह जीवन में एक सफल व्यक्ति के तौर पर अपनी पहचान बना सके। 

लेकिन यदि हम आजकल के विद्यार्थी जीवन ( Student life ) की बात करे ,तब हम गौर करते है की आजकल सिर्फ दिखावे पर ही अधिक जोर दिया जा रहा है। वास्तव में किसी भी विद्यार्थी के जीवन में कोई ख़ास परिवर्तन हो ही नही रहे है , वर्तमान समय में विद्यार्थी को केवल डिग्री लेकर सिर्फ नौकरी करना सीखाया जा रहा है।

इसलिए हमें चाहिए की हम केवल अपनी व्यक्तिगत और करियर से जुडी स्किल्स को सीखने में अपने समय को इन्वेस्ट करे। ना की केवल गधो की तरह डिग्रियों के पीछे भागकर नौकरी लग जाए बस। हमें अपने जीवन में शिक्षा के महत्त्व समझना चाहिए और यह जरुरी भी है। 

लेकिन इसका अर्थ यह बिलकुल भी नही है , की हम सभी की तरह भेडचाल का हिस्सा बन जाए। शिक्षा का सही मायनों में यह अर्थ होता है , की हमें उतना अधिक काबिल व्यक्ति बना दे की हम नौकरी लेने के नही बल्कि देने के काबिल बन जाये। 

हम आशा करते है की , आपको विद्यार्थी जीवन पर बेस्ट निबंध अवश्य ही पसंद आया होगा आपको आपके उज्जवल भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनाये। हमे उम्मीद है की Essay on Student Life in Hindi आपको अवश्य ही पसंद आया होगा तथा उपयोगी लगा है। 

और नया पुराने